Kahani Kona

Hindi stories


थक चुके है शहर की भाग दौड़ और शोर से तो चलिए कुछ देर कहानियो की छाँव में आराम कर लिया जाये। 
क्या कभी इश्क़ किया है आपने,.?

खुद से, किसी और से, या अपने काम से या किताबों से या किसी से भी। ..
अगर किया है तो आप जानते हैं कैसा लगता है,.. खो जाना कुछ देर के लिए, किसी की याद में.
होश में होना अच्छा लगता है पर किसी के प्यार में बेहोश रहना, क्या गजब बात है… है न।

वो गांव याद आये या वो चौराहा, वो भूली सी अपनी कहानी या वो दर्द जो भुलाये नहीं भूलता बात हो कोई, फ़िक्र हो किसी की भी.. कहानियों में सब कुछ मिल जाता है.
चलो न,
आज याद करते है उसे जिसे हम भुला चुके थे,.. वो इंसान, वो गाँव,.. वो शहर,.. वो दोस्त, वो कोई भी। जिसे अब याद किये बड़ा वक़्त गुजर गया.
आज पढ़ते है उस बीते कल की कहानी उस आने वाले पल की कहानी , जो भुला चुकी है उसकी  और जो इंतजार में है आने के उसकी भी.. चलो बाहों में भर के अपने अरमान कुछ देर कहानियों वाले गाँव चलते है। 
मेरी, तुम्हारी और हम सब की लिखी कहानी पढ़ने के लिए यहां click here

Here you can read Stories in English, Hindi and Urdu also. Let’s feel the love

click here

%d bloggers like this: