एक खत सिर्फ तुम्हारे नाम

Hindi stories

सुनो,

तुम्हे कई दिनों से कुछ बताने के बारे में सोच रही थी पर कैसे कहु समझ ही नहीं आया। फिर सोचा क्यों न, तुम्हारे सपनो की किताब से एक जरिया चुरा लिया जाये। इसलिए ये खत लिख रही हूँ। पहला खत है तो जो भी गलतियां हो माफ़ कर देना, तुम तो जानते ही हो आजकल इस भाग-दौड़ भरी दुनिया में खत कौन इस्तेमाल करता है।

पर क्यूंकि इस खत का जवाब मुझे तुम्हारी तरह ही चाहिए इसलिए ये सवाल भी मैं तुम्हारे ही लहजे में पूछना चाहती हूँ। अब सिर्फ मैं अपनी बात कहूँगी और तुम उन्हें आराम से पढ़ना और फिर अपना जवाब आराम से देना।

Advertisement

चाहती तो ये सारी बातें कल रात वीडियो कॉल पर भी कह सकती थी पर मैं तुम्हारे जवाब को हमेशा अपने पास ऐसे ही सहेज के रखना चाहती हूँ, इसलिए खत चुना है।

अभी यहां यूरोप में रात के 2 बजे है और तुम मेरे ख्यालों में किसी प्यारे सपने की तरह समाये मुझे सुलाने की कोशिश में लगे हो फिर भी मुझे ये खत आज ही लिख कर कल ही तुम्हे भेजना है। जानते हो क्यों, क्युकी मुझे तुमसे अब अलग नहीं रहना 🙁

एक बात बताओ तुम इतने ज़िद्दी क्यों हो?

Advertisement

पहले मुझे ज़िद्द करके यूरोप भेजा और अब पीएचडी के लिए भी मैं यही रहूं, हाँ…। आज भी मुझे याद है जब तुम मुझे यूरोप के लिए मना रहे थे, लोधी गार्डन में हम घंटो बैठे थे। मेरी शॉपिंग से लेकर मेरा बैग तक तुमने ही तो पैक किया था। मैं रो रही थी और तुमने मुझे फिर भी भेज दिया था 🙁
जानती हूँ तुम इस बार भी नहीं मानोगे, मुझे पीएचडी के लिए यही रहना होगा।

जानती हूँ तुम मुझसे कितना प्यार करते हो और मेरे सपनो को हमेशा अपने साथ रखते हो। Nobi हमें 5 साल हो गए हैं साथ और अब मुझे तुम्हारे अपने साथ होने की आदत हो गयी है। तुम मुझमे मुझसे ज्यादा हो ।
तुम्हारे सपने और तुम हमेशा मेरे साथ रहते हो । यहां यूरोप में होकर भी तुम हमेशा मेरे खुशियों का ध्यान रखते हो ।

और भी बहुत कुछ कहना है पर वो सब दिल्ली आकर बताउंगी। अभी के लिए बस इतना ही पूछना हैं की:-

Advertisement

क्या तुम ज़िंदगी भर मेरा साथ दोगे? Nobi, Will you be mine Forever?

जानती हूँ हमने इस बारे में पहले भी बात की है फिर भी मुझे इसका जवाब दोबारा चाहिए ?
तुम्हारे जवाब का इंतजार रहेगा

हमेशा से सिर्फ तुम्हारी

Advertisement

तुम्हारी,
Eshi Mishi


PS ;- अगर इस खत में कुछ भी गलत लिखा हो या फर्स्ट पारा दूसरे पारा से थोड़ा अलग लगे तो वो सिर्फ तुम्हारी गलती हैं, तुमने मुझे खत लिखना क्यों नहीं सिखाया दिल्ली में ।

A surprise song for you

Advertisement

Leave a Reply