पूनम और बरसात

Hindi Love Story

उस एक रात का वायदा आज भी याद है मुझे, याद है वो देर रात की हमारी बातें । भुला हूँ तो बस इतना की तुम आज मेरी नहीं हो ।
जानते हुए भी की अलग हो जाने का फैसला मेरा था मैं तुम्हे भुला नहीं पाया।

जो आज है नहीं उसके लिए लिख रहा हूँ ये सब अजीब है पर दिल की बातें दिल में भी कब तक रख पाउगा। अच्छा होता तुम अपने साथ अपनी यादों को भी ले जाती।

अगली सुबह उठ कर आदतन अपना मोबाइल चेक किया था, तुम्हारा कोई मैसेज नहीं था। रात की लड़ाई याद नहीं रही थी मुझे, फिर तुम्हारी प्रोफाइल में गया तो फेसबुक की पॉलिसीस ने मेरे सर्च को मुझ तक वापस लौटा दिया। पता चला की तुमने मुझे ब्लॉक कर दिया है ।

व्हाट्सप्प, फेसबुक तुम तक जाने वाला हर रास्ता बंद था । कॉल करने की हिम्मत न हुयी, क्या कहता ? और अगर वहा भी खुद को ब्लॉक्ड पाता तो न जाने कैसे संभालता खुद को। ग़लतफहमी है की शायद एक दिन तुम मुझे खुद कॉल करोगी। और उसी ग़लतफहमी के सहारे जीने की नाकाम कोशिश कर रहा हूँ।

खैर छोडो !

तुम्हारी कहानी में भले ही मेरी जगह नफरत भरे शब्दों से लिखी जाये पर मैं हमेशा तुम्हे वैसे ही और उतना ही इश्क़ करता रहुगा।
तुम मेरे साथ कभी खुश नहीं थी, मुझे इसका एहसास पहले से था पर क्या करता दिल नहीं मानता था तुम्हारे बिना।

दूरियां किसी बी रिश्ते में आने वाला एक फेज होता है पर जब हमारे बीच के दूरियां तुम्हे किसी और के करीब करने लगी तो लगा अब मुझे अलग हो जाना चाहिए । और ये मेरा कोई बेतुक्का ख्याल भी नहीं था अगले दिन की हमारी लड़ाई ने भी ये साबित कर दिया था की चंद दिनों की दूरियों ने अब न भर पाने वाली खायीं की शक्ल ले ली है ।

मैंने तुमसे कभी कुछ नहीं पूछा था पर जब पूछा तो जवाब मिला “मुझे तुम्हे मुझे सब कुछ बताने की जरुरत नहीं है” । उस दिन तुमने गुस्से में बहुत कुछ कहा जो तुम्हे अब शायद याद भी न हो पर मैं कुछ नहीं भूल पाया।

क्या प्लान था और क्या हुआ, पता नहीं । तुम खुश हो इसका यकीन है मुझे । तुम्हारी कहानी में मैं कभी था ही नहीं। तुम्हारी वो चकाचौंध नाईट लाइफ का हिस्सा बन पाने की कोशिश की भी थी मैंने पर खुद के वजूद से अलग नहीं हो पाया कभी।

बहुत कुछ बताना था जो रह गया, कितना कुछ पूछना पर उसका जवाब व्हाट्सप्प के ब्लॉक्ड मैसेज ने दे दिया था।

आज की रात भी बस हमारी वो देर रात वाली कॉल याद आयी तो सोचा तुम्हारे बारे में कुछ लिखा लिया जाये । जब कोई नहीं होता मेरी बात सुनने को तो ये कहानियां याद आती है ।

P S ;- अब ये शब्द लिखे ही नहीं जाते और हाँ मैं तुम्हे आज भी उतना ही याद करता हूँ जितना पहले। सोचता हु उस रात एक सॉरी और एक और कोशिश के वादे ने कितना कुछ बदल दिया होता हमारे आज में।


कुछ और बेहतरीन यादें जरूर पढ़ें

इश्क़ की पहली बारिश का इज़हार

बस तुम्हारे लिए,…

इश्क़ का रिवाज

एक खत सिर्फ तुम्हारे नाम

कोहरे वाली पहाड़ी लड़की


For More Hindi Love Story, Hindi Stories, Children Stories, Please subscribe our Story Blog. Fill Your Email address in the below box

Leave a Reply