मुंबई की बाढ़, सरकारी की बड़ी नाकामी

Mumbai floods political news latest
Mumbai floods political news latest

Mumbai Floods

तो हुआ कुछ यूँ की 2005 से शुरू हुयी सरकार की तयारी आज तक जारी है पर परिणाम क्या निकले न किसी ने पूछा न किसी को बताने का ख्याल आया।

देश में परिवर्तनों की आंधी आयी, मौसम बदला तो पुरानी सरकार नहा धो कर वापस सत्ता में आ गयी, पर क्या बदला ये खोजने निकलेंगे तो खोज लम्बी चलेगी।

बीते दिनों मुंबई की बरसात के साथ ही सरकार के किये वादे भी उनके चुनाव प्रचार के पर्चों की शक्ल लिए सड़को पर बह निकले। हर साल आने वाली बाढ़ की तैयारी बस इतनी ही है की किसे, कब, क्या बयान देना है इस बार सब तैयार है।


फ़र्क़ कितना पड़ता है ये भी खोजने की कोशिश न ही करे आप, तो बेहतर होगा। प्राकृतिक आपदाये हर वर्ष किसी न किसी शक्ल में आती ही है और हर बार ही जान माल का नुक्सान होता है। पर हमें क्या ?
जितना नुक्सान प्राकृत आपदाएं करती है उससे कही अधिक तो देश में विकास रैली में हो रहा है “सबका साथ सबका विकास”। मोब लीचिंग्स।

बाढ़ आयी मुंबई का कार्यकाल बढ़ गया, स्कूल, कॉलेज व सरकारी कार्यालओं में छुट्टी घोषित कर दी गयी है, अच्छी बात है। अब बाहर सरकार पानी तो निकाल नहीं सकती इसलिए छुट्टी की घोषणा कर दी। घर में रहे सब अच्छा अच्छा दिखेगा। आप भी खुश और वो भी। आम नहीं मिलेंगे पकोड़े से काम चला लीजिये।

अब तक बाढ़ और बारिश के कारण 38 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और एशिया का सबसे बड़ा स्लम जो इस समय तैर रहा की भी किसे ही फ़िक्र है।

मरने वालो की जान की कीमत सरकार ने एक लाख रुपये लगाई है, तो अब आप इस बात की भी ख़ुशी मना सकते है की 15 लाख में से एक तो आपके हिस्से आ ही जायेगा।

BMC से साफ़ सफाई और बाढ़ पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने अपनी बड़ी उपलब्धि कुछ इस तरह बताई की उनके 6 पम्पिंग स्टेशन ने मिलकर 14 लाख लीटर पानी निकल दिया है। अब उनकी गलती नहीं है आपके घर में इससे अतिरिक्त पानी है। कोशिश जारी है आप अपनी बारी के लिए कतार में खड़े रहे ।

BMC ने अपने ट्वीट में कहा की बेहतर होता अगर उनके पर 7 पम्पिंग स्टेशन होते। आग लगी है तो सरकार और सहयोगी कुआँ खोदने की तैयारी में है। मौसम विभाग की पहले से भारी बारिश की घोषणा के बावजूद पम्पिंग स्टेशन क्यों नहीं खरीदे गए बड़ा सवाल है?

30 हज़ार करोड़ का BMC बजट है, कितना महंगा पंप आता की आज तक वो ला नहीं पाए। मेड इन इंडिया वाले भारत में पम्पिंग स्टेशन नहीं है अजीब बात है।
हो सकता है BMC चीन के माल का बहिस्कार करने की पालिसी को फॉलो करते हुए पंप स्टेशन न मंगवाया हो, अच्छा भी। अब चीन को ऐसे ही तो कमजोर किया जा सकता है, इसके लिए थोड़ी तकलीफ तो उठानी ही होगी। कोई बात नहीं सरकार है उसके कामो पर सवाल मत उठाईये।

आप के लिए बस इतना की बरसात में कही फसे है तो साथ रह कर एक दूसरे की मदद करे, सरकार और सहयोगियों पर निर्भर न रहे।


दोष पानी का है न की सरकार का। CM साहब भी आजकल भाग दौड़ में है हिम्मत रखे सुरक्षित रहे।
और आदत डाल ले, अगली साल बारिश फिर आएगी और तब भी सरकार के पास पंप खरीदने के पैसे नहीं होंगे।

जरुरी सुचना: जो एक लाख रुपये मृतों के लिए घोषित किये गए है वो बस घोसना है तो उसके लिए भी लाइन में लगने न जाये।

धन्यवाद
विश्व गुरु भारत की ओर से


Read More:-

Self Made Millionaire; Here are 5 real ways to get rich

Do you Want to Retire Youngest Crorepati.? Advance Guide to your Dreams

Five Things to Quit NOW; Success Path


For More Political news, Latest on Mumbai Floods Please Subscribe us. put Your Email Address in below box

Leave a Reply

%d bloggers like this: