क्या राजनीती, मीडिया और लोकतंत्र को कुचल रही है

political news hindi
political news hindi

यूँ तो अधिकतर मीडिया हाउसेस अब राजनीती के ग़ुलामी में शामिल हो ही गए है पर जो इक्का – दुक्का बचे है उनका भी दिमाग चलना लगभग बंद हो गया है । या शायद आजकल राजीनति ही इतनी चलाक हो गयी है की मीडिया और लोकतंत्र सबको पीछे छोड़ चुकी है ।

आप सोचते रह जायेगे की अब क्या होगा और नेता आपकी सोच को कुचल कर आगे निकल जायेगे और आप खड़े मुँह ही तकते रह जायेगे।

चुनाव की तारिख के निर्धारण के आस-पास ही कोबरा पोस्ट ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया था जिसमे उन्होंने कई बॉलीवुड और डेली सोप के एक्टर- एक्ट्रेसेस के पास जाकर एक फेक पार्टी एजेंट बनकर अपना प्रचार करने की डील पेश की थी। जिसमे कुछ प्रसिद्ध हस्तियां भी शामिल थी जैसे कृष्ण अभिशेख, जैकी श्रॉफ, शक्ति कपूर और भी बहुत सारे और सबने अपना अपना दाम खुल कर सामने रखा था की वो कितने में बिक सकते है।  कोबरा पोस्ट ने ये सब जनता को सचेत करने के लिए किया था की हो सकता है इस बार राजनीतिक पार्टियां अपने चुनाव प्रचार के लिए इन एक्टर-एक्ट्रेसेस का प्रयोग करे। पर जब ये रिपोर्ट बाहर आयी और जनता ने देखा कैसे ये लोग पैसों के लिए कुछ भी करने को तैयार है तो लोगों को तो बुरा लगा ही साथ ही साथ राजनीतिक खेमे में भी हड़कंप मचा की अब प्रचार किससे कराया जाये।

पर वो कहते है न वो राजनीती ही क्या जो न बिकने वाले एक मीडिया हाउस से डर जाये, कोबरा पोस्ट ने स्टिंग ऑपरेशन करके प्रचार की पोल खोली तो बीजेपी-कांग्रेस व अन्य पार्टियों ने इन्ही एक्टर-एक्ट्रेसेस को अपनी पार्टी में रख लिया अब ये प्रचार करेंगे तो आप ये भी नहीं कह सकते की गलत है  क्यूंकि अब ये प्रचार अपने लिए करेंगे।

स्टिंग ऑपरेशन में महिला एक्ट्रेसेस में अमीषा  पटेल, सनी लियॉन, टिस्का चोपड़ा, राखी सावंत, महिमा चौधरी जैसे और भी बड़े दिग्गज कलाकार शामिल थे।

हालाँकि कुछ कलाकारों ने इन्हे बुरी तरह दुत्कार भी दिया था। जिनमे विद्या बालन, सौम्य टंडन, अरशद वारसी शामिल थे।

खैर गोविंदा जी, धर्मेंद्र जी, जया पर्दा जी, हेमा मालिनी जी के बाद अब देश “को” बनाने का ज़िम्मा उठाया है श्री निरहुआ, श्री रवि किशन, सुश्री उर्मिला मार्तोडकर, जैसे कलाकारों ने।

अभी और कितना ड्रामा बाकि है देश की राजनीती में ये देखना बड़ा ही मजेदार होगा।

अपनी जरूरतों को खोजिये और जानिए आप देश को पढ़े लिखे लोगों के हाथो में देखना चाहते है या नाटक वालो के। सबका अपना अपना काम होता है और हम उसे उन्ही रूप में देखना चाहते है। मूवी बनाने वाले देश की शिक्षा व्यवस्था के साथ क्या करेंगे इस पर विचार जरूर करना।

और हमारे ये एक्टर्स कितने बिकाऊ है इसकी एक झलक भी देख लीजिये ।



अगर ये खबर आपको थोड़ी भी जरुरी लगी हो तो इसे जरूर शेयर करे ताकि इस बार चुनाव नाटक और जुमलों पर नहीं बल्कि असली मुद्दों पर हो। शेयर एंड कमेंट करना न भूले ।

जय हिन्द, जय भारत


इस तरह की और खबरों के लिए हमें फ्री में ईमेल से सब्सक्राइब करे ताकि आप कोई भी जरुरी खबर मिस न करे


-यह भी पढ़ें –

देश में चौकीदारों की हालत सुधारने की जगह नारों से पूरा किया जा रहा है वादा: #Mainbhichowkidar पर बीजेपी को लगायी जम कर फटकार

मोदी और राहुल की टक्कर; कौन होगा इस बार का विजेता.?

क्या चुनाव में बेरोजगारी एक मुद्दा हो सकता है?

जवाहरलाल नेहरू हाज़िर हो!


For more such political News in Hindi, keep reading.


Leave a Reply

%d bloggers like this: